गुरु जी शुक्रगुजार हा तेरे सानु आपना तुसी बना लिया,

दर दर ते असी रूलदे सी , सानु गुरू जी चरनी ला लिया -(2)
गुरू जी शुक्रगुजार हा तेरे , सानु आपना तुसी बना लिया, शुक्रगुजार हा तेरे सानु आपना तुसी बना लिया़ंं़़़़़़़़़़़़ (1)मोह-माया तो पला छुडाया, (सच दा सानु पाठ पढ़ाया)) 2, ऐसी किरपा कीती गुरू जी,(सुखा वाला बुटा लाया,)2सानु सिधे रसते पा के-2, दुखा तो बचा लिया,
गुरू जी शुक्रगुजार हा ़़़़़़़़़़़़़़़़़़
(2)तुहानु कदे भुला नहीं सकदे,(ए मन च खयाल लिया नी सकदे,)-2

तुहाडे एहसाना दा करजा,( गुरू जी असी चुका नहीं सकदे,)-2
तुहाडे नाम दा चपु ला के,-2 भवसागर पार करा लिया
गुरू जी शुक्रगुजार हा तेरे ़़़़़़़़़
(3)दुनिया बिच साडा मान वधाया, (फरशा तो अरशा  पहुंचाया,)-2
साडे उते रहमत करके (,मेहरा दा तुसी मीह वरसाया,)-2
विपन शर्मा बिट्टू  आ के,-2  जीवन सफल बना लिया
गुरू जी शुक्रगुजार हा तेरे ़़़़़़़़

download bhajan lyrics (36 downloads)