ओ कब जाऊंगा बृज़ धाम

                    श्री हरिदास
           तरज़:-कोई बिछुड़ गया मिलके    

     ओ कब जाऊंगा बृज़ धाम,बृज़ धाम हां बृज़ धाम                      
     ओ कब....

  वृन्दावन की कुंज गलिंन में,यमुना तट और बन्सीं वट में  
     मिल जायें घनश्याम      
     ओ कब....

  बरसानें की ऊंची अटारी,जहां बिराजे शामा
      प्यारी पुराणों हो सब काम    
     ओ कब....

  पागल मन की आस यही है,जीवन में बस प्यास यही है  
     धसका हो वहीं विश्राम
     ओ कब.......।

           रचना:-बाबा धसका पागल पानीपत
            फोन:-7206526000
श्रेणी
download bhajan lyrics (31 downloads)